ads

Translate

Showing posts with label घटना. Show all posts
Showing posts with label घटना. Show all posts

Thursday, April 8, 2010

बस में चाकूबाजी और सबकी बेरूखी

बस का सफर अब सफर नहीं कहर हो गया है । आज मैं अपने यात्रा का जिक्र नहीं करूँगा क्योंकि कल से ले कर आज सुबह तक जो भी हुआ वो मुझे मेरे ऑफिस पहुचने तक याद था । पर ऑफिस पहुच कर सब भूल गया जब मेरे से एक सीनियर का लहुलुहाँन बदन देखा । किसी ने  बस मैं उनसे  मोबाइल छिनने की कोशीश  की और वो उनसे उलझ गए तो उन लोंगो ने चाकू मर दिया । ये रोज की तरह होने वाली घटना है पर मोबाइल के लिए चाकू मार देना इसे खास बना देती है । आज सुबह की ही बात है वी भी मेरे ही घर के पास रहते है और कभी कभी मेरे साथ ही ऑफिस आते है । रोज की तरह में जब घर से निकला और जब में बस मैं चढ चुका था और बस निकल आधे रास्ते में थी तो उनका फोन आया । पर में बस से बहुत आगे निकल गया था तो उन्हें अकेले जाना पड़ा । में भी इस बात को आया राम गया राम की तरह भूल गया और अपनी बस के तमाम मुसाफिरों की तरह सफर करने लगा । आज कोई एक्सीडेंट हो गया था जिसके कारण बहुत ट्रेफिक था और मुझे ऑफिस पहुचने आधे घंटे की देरी हो गयी । पर मेरे सीनियर इतने भाग्यशाली नहीं थे । वो जिस बस में चढ़े उसमे २ मोबाइल पहले से चोरी हो चुके थे तो वो भी थोड़े सावधान थे । पर यही सावधानी उनको भारी पड़ी । जब उनका मोबाइल निकाला गया तो उन्होंने उसे रंगे हाथपकड़ लिया । पर कहते है न की मुसीबत कभी अकेले नहीं आती वो भी अकेला नहीं था पुरे ग्रुप के साथ था । पर मेरे सीनियर भी कम नहीं थे वो भी सब पर टूट पड़े पर अकेला चना जैसे भाढ नहीं फोड़ सकता ये भी सबसे नहीं निपट सके । और जब उन लोंगो देखा की ये हम पर भारी हो रहे हैं गुंडों ने उन्हें चाकू मर दिया । उपर वाले का शुक्र था की चाक़ू कोहनी पर लगी न की पेट पर । फिर तो वो भी मोबाइल को भूल कर खुद तो देखने लगे और जैसे तैसे बस से उतर कर हास्पिटल को भागे । मरहम पट्टी के बाद ऑफिस आये तो वही पुरानी कहानी । पुलिस के पास जाने से क्या होगा कुछ नहीं होगा फलां चिला । पर मैं इसका विरोधी हूँ कम से कम एक प्रार्थना पत्र तो पुलिस स्टेशन । फिर काफी जद्दोजेहद के बाद और उन्होंने अपने पत्रकार मित्रों से विचार विमर्श के बाद F.I.R कराने को निर्णय लिया । अब तो जैसे पूरा मीडिया हो उनके पीछे लग गया हो । उनके किसी मित्र ने डी.एस.पी को फोन कर दिया तो जब तक हम पुलिस स्टेशन पहुचे तो पूरा महकमा हमारा इंतज़ार कर रहा था । चूँकि डी.एस.पी का फोन था तो हमारी आवभगत भी की गयी और बस वाले को भी ले आया गया । उसको अंदर कर के पूछताछ के लिए बंद किया और हमें कल आने को कहा गया और विश्वास दिलाया की फोन मिल जायेगा । मेरा मानना है की घटना की खबर पुलिस को जरूर देनी चाहिए हो सकता है की उससे आपका कोई प्रत्यक्ष फायदा न हो पर फायदा तो होता है । और आप दूसरों के साथ साथ अपनी ही मदद कर रहे है । और अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो समझ लीजिए आप लुटेरो का हौसला और मजबूत कर रहे है । आज अगर मेरी बारी है कल आपकी भी हो सकती है ।